आवाज़ का ठिकाना

हिंदी लेखक की आवाज़ उसके लिखे में जिस जगह से सुनाई देती है, वह जगह कौनसी है? उसकी आवाज़ को कहाँ लोकेट किया जाए? प्रेमचंद की आवाज़ कई जगहों से सुनाई देती हुई अंततः गाँव से आती हुई याद रहती है। रेणु की मानो कोई आवाज़ नहीं; उनकी कला, जैसा उदयन वाजपेयी ने हमें दिखाया है, अभिलेखन…